Call Now Whatsapp Call Back

महिलाओं में थायराइड के कारण, लक्षण और इलाज

महिलाओं में थायराइड के कारण, लक्षण और इलाज
Share

हार्मोनल असंतुलन, तनाव, शरीर में आयोडीन की कमी, वायरल संक्रमण आदि के कारण महिलाओं में कई तरह की समस्याएं पैदा होती हैं। थायराइड भी उन्हीं में से एक है। थायराइड महिलाओं को कई तरह से प्रभावित करता है।

थायराइड क्या होता है? (What is Thyroid)

थायराइड गले में आगे की तरफ मौजूद एक ग्रंथि है जो तितली के आकार की होती है। यह ग्रंथि शरीर की अनेकों आवश्यक गतिविधियों को नियंत्रित करती है जैसे कि भोजन को ऊर्जा में बदलना आदि।

थायराइड टी3 यानी ट्राईआयोडोथायरोनिन और टी4 यानी थायरॉक्सिन हार्मोन का निर्माण करता है। ये हार्मोन दिल की धड़कन, सांस, पाचन तंत्र, शरीर का तापमान, हड्डियों, मांसपेशियों और कोलेस्ट्रॉल को संतुलित रखने में मदद करते हैं।

जब इन दोनों हार्मोन में असंतुलन होता है तो उसे थायराइड की समस्या कहते हैं। पुरुषों की तुलना में महिलाओं में थायराइड रोग का प्रभाव अधिक देखा जाता है। पुरुष की तुलना में महिलाओं में थायराइड प्रभाव अधिक होता है।

साथ ही, महिलाओं को गर्भावस्था में थायराइड प्रभाव डालता है। अगर आपके मन में यह प्रश्न उठता है कि महिलाओं में थायराइड कितना होना चाहिए तो हम आपको बता दें कि महिलाओं में थायराइड का नॉर्मल रेंज 0.4-4.0mIU/L के बीच होना चाहिए।

थायराइड रोग के प्रकार (What is Thyroid)

थायरॉइड के प्रकार विभिन्न होते हैं जिन्हें हाइपरथायरायडिज्म और हाइपोथायरायडिज्म के रूप में जाना जाता है।

  • हाइपरथायरायडिज्म:

    हाइपरथायरायडिज्म तब होता है जब आपकी थायराइड ग्रंथि अत्यधिक हार्मोन थायरोक्सिन का उत्पादन करती है। यह थायराइड विकार आपके शरीर के चयापचय को तेज कर सकता है, इस प्रकार, अनजाने में वजन घटाने और एक तेज या अनियमित दिल की धड़कन पैदा कर सकता है।

  • हाइपोथायरायडिज्म:

    हाइपोथायरायडिज्म एक ऐसी स्थिति है जिसमें आपकी थायराइड ग्रंथि कुछ महत्वपूर्ण हार्मोनों का पर्याप्त उत्पादन नहीं करती है। यह वृद्ध महिलाओं में सबसे अधिक प्रचलित है। जब आपके शरीर में बहुत कम थायराइड हार्मोन होता है, तो यह आपको थका हुआ महसूस कर सकता है, आपका वजन बढ़ सकता है और आप ठंडे तापमान को सहन करने में भी असमर्थ हो सकते हैं।

महिलाओं में थायराइड के कारण

महिलाओं में थायराइड कई कारणों से होता है जिसमें मुख्य रूप से निम्न शामिल हो सकते हैं:-

  • वायरल संक्रमण के चपेट में आने पर महिला को थायराइड की शिकायत हो सकती है।
  • जो महिला हमेशा तनाव यानी स्ट्रेस में रहती है उन्हें थायराइड होने का खतरा अधिक होता है।
  • डिलीवरी के बाद शरीर में बदलाव आने के कारण भी थायराइड की समस्या पैदा हो सकती है।
  • जब एक महिला की शरीर में आयोडीन की कमी होती है तो थायराइड का खतरा होता है।
  • हार्मोनल असंतुलन के कारण महिला को कई तरह की परेशानियां होती हैं और थायराइड भी उन्हीं में एक है।

महिलाओं में थायराइड के लक्षण

महिलाओं में थायराइड के प्रमुख लक्षण में थायराइड ग्रंथि में सूजन होना शामिल है, लेकिन यह जरूरी नहीं कि सभी महिलाओं में यह लक्षण दिखाई दें। महिलाओं में थायराइड का लक्षण के रूप में निम्न अनुभव हो सकते हैं:

महिलाओं में हाइपरथायरायडिज्म के लक्षण में निम्न शामिल हो सकते हैं:-

  • वजन बढ़ना
  • चीजें याद नहीं रहना
  • आवाज कर्कश होना
  • कमजोरी महसूस करना
  • बालों का सुर्ख और मोटा होना
  • त्वचा का शुष्क होना
  • कब्ज की शिकायत होना
  • थकावट महसूस होना
  • बार-बार और भारी मासिक धर्म होना
  • ठंडे तापमान को झेलने की क्षमता कम होना
  • ब्लड कोलेस्टेरोल का स्तर बढ़ना
  • मांसपेशियों में दर्द होना
  • मांसपेशियां कोमल और कठोर होना
  • दिल की धड़कन धीमी होना
  • कुछ मामलों में अवसाद (डिप्रेशन) होना

महिलाओं में हाइपोथायरायडिज्म के लक्षण में निम्न शामिल हो सकते हैं:-

  • थायराइड ग्रंथि या गण्डमाला का आकार बढ़ना
  • घबराहट होना
  • मांसपेशियों में कमजोरी और कंपकंपी होना
  • तनाव महसूस होना
  • वजन कम होना
  • दृष्टि संबंधित समस्या होना या आंखों में जलन होना
  • चिड़चिड़ापन होना
  • सोने में परेशानी होना यानी सही से नींद नहीं आना
  • मासिक धर्म का अनियमित होना या पूर्ण रूप से रुक जाना

कुछ मामलों में थायराइड के लक्षण दूसरी बीमारियों या स्थितियों के लक्षण जैसा हो सकते हैं, ऐसे में इस बात की पुष्टि करने के लिए डॉक्टर कुछ जांच का सहारा लेते हैं।

थायरॉइड महिलाओं को किस प्रकार प्रभावित करता है?

महिलाओं में थायराइड की समस्या अधिक पाई जाती है। थायराइड विकार यौवन और मासिक धर्म को असामान्य रूप से जल्दी या देर से होने का कारण बन सकते हैं। इसके अलावा, थायराइड हार्मोन का असामान्य रूप से उच्च या निम्न स्तर बहुत हल्का या बहुत भारी मासिक धर्म, बहुत अनियमित मासिक धर्म, या अनुपस्थित मासिक धर्म (एमेनोरिया नामक स्थिति) का कारण बन सकता है।

महिलाओं में थायराइड के साइड इफेक्ट्स (Side Effects of Thyroid)

थायराइड ग्रंथि के कार्यों का एक महिला के प्रजनन तंत्र में बहुत बड़ी भूमिका होती है, खासकर अगर थायरॉयड अति सक्रिय या कम सक्रिय है। महिलाओं में थायराइड के साइड इफेक्ट निम्न हो सकते हैं:

  • थायराइड विकारों के कारण यौवन और मासिक धर्म असामान्य रूप से जल्दी या देर से आ सकता है।
  • ओवरएक्टिव या अंडरएक्टिव थायराइड ओवुलेशन को प्रभावित कर सकता है। अंडाशय से अंडा रिलीज होने की प्रक्रिया को ओवुलेशन कहते हैं।
  • थायराइड विकार ओवुलेशन को पूर्ण रूप से रोक सकता है। इसके अलावा, अगर महिला को अंडरएक्टिव थायराइड है तो ओवरी में सिस्ट विकसित होने का खतरा बढ़ जाता है।
  • गंभीर हाइपोथायरायडिज्म वास्तव में ओव्यूलेशन के रुकने और स्तन में दूध उत्पादन का कारण बन सकता है।
  • थायराइड विकार गर्भावस्था के दौरान भ्रूण को नुकसान पहुंचा सकता है और डिलीवरी के बाद मां में थायराइड की समस्या पैदा कर सकता है। इसे पोस्टपार्टम थायरॉइडाइटिस (प्रसवोत्तर थायरॉयडिटिस) के नाम से जानते हैं।
  • थायराइड हार्मोन की कमी गर्भपात, समय से पहले डिलीवरी, स्टिलबर्थ (डिलीवरी से पहले या दौरान शिशु की मृत्यु), प्रसवोत्तर रक्तस्राव (पोस्टपार्टम हेमरेज) का कारण भी बन सकता है।
  • गर्भावस्था के दौरान ओवरएक्टिव थायराइड से पीड़ित महिला को गंभीर मॉर्निंग सिकनेस का खतरा अधिक होता है।
  • थायराइड विकार रजोनिवृत्ति (मेनोपॉज) की शुरुआत का कारण बन सकता है (40 की उम्र से पहले या 40 की शुरुआत में)।
  • ओवरएक्टिव थायराइड विकार के कुछ लक्षणों को गलती से मेनोपॉज का शुरुआती लक्षण समझा जा सकता है। इसमें शामिल हैं माहवारी की कमी, हॉट फ्लैशेज, नींद की कमी (इंसोम्निया) और मूड में बदलाव।
  • हाइपरथायरायडिज्म का इलाज करना कभी-कभी प्रारंभिक रजोनिवृत्ति के लक्षणों को कम कर सकता है या प्रारंभिक रजोनिवृत्ति को होने से रोक सकता है।
  • इन सबके अलावा, महिलाओं में थायराइड के साइड इफेक्ट के तौर पर थायराइड हार्मोन का असामान्य रूप से अधिक या कम होना हल्का या हेवी मासिक धर्म, अनियमित मासिक धर्म, मासिक धर्म की अनुपस्थिति (एमेनोरिया) का कारण बन सकता है।

महिलाओं में थायराइड का इलाज

महिलाओं में थायराइड का इलाज मरीज की उम्र और थायराइड की गंभीरता पर निर्भर करता है। चाहे हाइपरथायरायडिज्म का इलाज हो या हाइपोथायरायडिज्म का इलाज – इस समस्या का उपचार कई तरह से किया जा सकता है जिसमें एंटी-थायराइड गोलियां, रेडियोएक्टिव आयोडीन उपचार, लेवोथायरोक्सिन और सर्जरी आदि शामिल हैं।

इलाज के जब सभी माध्यम असफल हो जाते हैं या थायराइड की स्थिति गंभीर होती है तो डॉक्टर सर्जरी का सुझाव देते हैं। इस प्रक्रिया के दौरान उन उत्तकों को आंशिक रूप से बाहर निकाल दिया जाता है जो अधिक हार्मोन का उत्पादन करते हैं।

अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न

Q. थायराइड को ठीक होने में कितना समय लगता है?

यह पूरी तरह से थायराइड की गंभीरता और इलाज के प्रकार पर निर्भर करता है। जहां दवाओं से थायराइड को ठीक होने में कुछ सप्ताह या महीने लग सकते हैं, वही सर्जरी से इसे मात्र कुछ ही दिनों में ठीक किया जा सकता है। आपके लिए इलाज का कौन सा प्रकार सही है डॉक्टर इस बात का फैसला जांच के बाद करते हैं।

Q. क्या थायराइड में गर्म पानी पीना चाहिए?

थायराइड में गर्म पानी पीने का सुझाव दिया जाता है, क्योंकि इससे शरीर डिटॉक्सीफाई होता है।

Q. क्या थायराइड में दूध पीना चाहिए?

थायराइड से पीड़ित मरीज के लिए दूध फायदेमंद होता है, इसलिए इसका सेवन किया जा सकता है।

Q. क्या थायराइड में चाय पीनी चाहिए?

थायराइड से पीड़ित मरीज को चाय या कॉफी का सेवन नहीं करना चाहिए, क्योंकि इससे उनकी परेशानियां बढ़ सकती हैं।

Q. महिलाओं का थायराइड कितना होना चाहिए?

TSH का सामान्य मान 0.5 से 5.0 mIU/L है। गर्भावस्था, थायरॉयड कैंसर का इतिहास, पिट्यूटरी ग्रंथि रोग का इतिहास, और वृद्धावस्था कुछ ऐसी स्थितियां हैं जब टीएसएच को एक एंडोक्रिनोलॉजिस्ट द्वारा निर्देशित एक अलग श्रेणी में बनाए रखा जाता है। FT4 सामान्य मान 0.7 से 1.9ng/dL हैं।

Q. महिलाओं में थायराइड ज्यादा क्यों होता है?

पुरुषों की तुलना में महिलाओं के लिए जोखिम लगभग 10 गुना अधिक है। इसका एक कारण यह है कि थायरॉयड विकार अक्सर ऑटोइम्यून प्रतिक्रियाओं से उत्पन्न होते हैं, जो तब होता है जब शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली अपनी ही कोशिकाओं पर हमला करना शुरू कर देती है।

Q. औरत को थायराइड की समस्या होने पर क्या होता है?

जब एक औरत को थायराइड की समस्या होती है तो उसे अनेक समस्याओं का सामना करना पड़ता है जैसे कि पीरियड्स अनियमित होना, नींद नहीं आना, वजन बढ़ना, तनाव बढ़ना आदि।

Q. औरत का थायराइड कहां होता है?

थायराइड एक बड़ी ग्रंथि है जो पुरुषों और महिलाओं दोनों के गले में स्थिति होती है।

Request a Call Back X
Submit
By clicking Proceed, you agree to our Terms and Conditions and Privacy Policy

Do you have a question?

Get in touch with us

Submit
By clicking Proceed, you agree to our Terms and Conditions and Privacy Policy

Get in touch with us

Call Now

Get in touch with us

Submit
By clicking Proceed, you agree to our Terms and Conditions and Privacy Policy

Get in touch with us

Call Now