Call Now Whatsapp Call Back

गैस्ट्रिक अल्सर का लक्षण, कारण और उपचार

गैस्ट्रिक अल्सर पेट में अल्सर के लक्षणों को समझें
Share

जाने पेट में कैंसर

गैस्ट्रिक अल्सर पेट की परत पर होने वाला घाव है। यह तब होता है जब पेट की सुरक्षात्मक बलगम परत (protective mucus layer) में क्षति पहुंचती है। इससे पेट का एसिड ऊतकों में जलन पैदा करता है। इसके सामान्य कारणों में एच. पाइलोरी बैक्टीरिया से संक्रमण और इबुप्रोफेन जैसे एनएसएआईडी का लंबे समय तक उपयोग शामिल है।

जीवनशैली में बदलाव, जैसे मसालेदार भोजन से परहेज और धूम्रपान छोड़ना, अल्सर को रोकने में मदद करते हैं। अगर इलाज न किया जाए, तो वे गंभीर जटिलताएँ पैदा कर सकते हैं। गैस्ट्रिक अल्सर के लक्षणों में पेट में जलन, मतली और सूजन शामिल हो सकते हैं। उपचार में अक्सर पेट के एसिड को कम करने के लिए दवाएं और बैक्टीरिया शामिल होने पर एंटीबायोटिक्स शामिल होते हैं। 

गैस्ट्रिक अल्सर के लक्षण

गैस्ट्रिक अल्सर के अनेक लक्षण होते हैं जो गंभीरता में भिन्न हो सकते हैं। प्रभावी उपचार और जटिलताओं को रोकने के लिए इन लक्षणों को जल्दी पहचानना महत्वपूर्ण है। सामान्य लक्षणों में निम्न शामिल हैं:

  1. पेट में जलन और दर्द: ये सबसे आम लक्षण हैं। जलन और दर्द अक्सर पेट के ऊपरी मध्य भाग में महसूस होते हैं। ये कुछ मिनटों से लेकर कई घंटों तक मौजूद रह सकते हैं।
  2. खाने से संबंधित दर्द: खाने से दर्द में सुधार या बदतर हो सकता है। कुछ लोगों को खाने के बाद राहत मिलती है, जबकि अन्य को अधिक दर्द का अनुभव हो सकता है। इससे अल्सर की पहचान करने में मदद मिल सकती है।
  3. मतली या उलटी: मतली एक लगातार बने रहने वाला लक्षण है। कुछ मामलों में, उल्टी हो सकती है, जिससे दर्द से अस्थायी राहत मिल सकती है।
  4. सूजन या पेट भरा हुआ महसूस होना: भोजन के बाद मरीज को अक्सर पेट फूला हुआ या अत्यधिक भरा हुआ महसूस होता है। यह अनुभूति असुविधाजनक हो सकती है और भूख कम हो सकती है।
  5. भूख में कमी: दर्द और असुविधा के कारण, गैस्ट्रिक अल्सर वाले लोगों को खाने का मन नहीं होता है। यह वजन घटाने और कमजोरी में योगदान दे सकता है।
  6. गहरा या काला मल: गहरा या काला मल पेट में रक्तस्राव का संकेत दे सकता है। यह एक गंभीर लक्षण है और इस पर तत्काल चिकित्सा ध्यान देने की आवश्यकता है।
  7. खून की उल्टी: गंभीर मामलों में, अल्सर से रक्तस्राव होता है, जिससे खून की उल्टी हो सकती है। यह एक आपातकालीन स्थिति है और इसमें तत्काल चिकित्सा देखभाल की आवश्यकता है।

यह भी पढ़े: जाने पेट में कैंसर के लक्षण, कारण और उपचार

गैस्ट्रिक अल्सर के कारण

गैस्ट्रिक अल्सर, पेट के पाचन तरल पदार्थ और पेट की परत के सुरक्षात्मक तंत्र के बीच असंतुलन के कारण विकसित होता है। यहाँ प्राथमिक कारणों में शामिल हैं:

  1. एच. पाइलोरी संक्रमण: हेलिकोबैक्टर पाइलोरी (एच. पाइलोरी) बैक्टीरिया गैस्ट्रिक अल्सर का एक सामान्य कारण है। यह बैक्टीरिया पेट की सुरक्षात्मक बलगम परत को नुकसान पहुंचाता है, जिससे ऊतक अम्लीय वातावरण के प्रति अधिक संवेदनशील हो जाते हैं। एच. पाइलोरी अक्सर दूषित भोजन, पानी या किसी संक्रमित व्यक्ति के निकट संपर्क से फैलता है।
  2. एनएसएआईडी का लंबे समय तक उपयोग: नॉनस्टेरॉइडल एंटी-इंफ्लेमेटरी दवाएं (एनएसएआईडी), जैसे कि इबुप्रोफेन, एस्पिरिन और नेप्रोक्सन, पेट की परत में जलन या सूजन पैदा कर सकती हैं। ये दवाएं प्रोस्टाग्लैंडिंस के उत्पादन में बाधा डालती हैं, पदार्थ जो पेट की सुरक्षात्मक बलगम परत को बनाए रखने में मदद करते हैं। नियमित या उच्च खुराक के उपयोग से अल्सर विकसित होने का खतरा बढ़ जाता है।
  3. अत्यधिक एसिड उत्पादन: ज़ोलिंगर-एलिसन सिंड्रोम जैसी स्थितियों के कारण पेट में अत्यधिक मात्रा में एसिड का उत्पादन होता है। यह पेट की रक्षा तंत्र को प्रभावित करता है, जिससे अल्सर का निर्माण हो सकता है। पेट में एसिड का उच्च स्तर तनाव, कुछ खाद्य पदार्थों और कॉफी और शराब जैसे पेय पदार्थों के कारण भी हो सकता है।
  4. धूम्रपान: सिगरेट पीने से गैस्ट्रिक अल्सर होने का खतरा बढ़ सकता है। निकोटीन पेट में एसिड उत्पादन को उत्तेजित करता है और बाइकार्बोनेट के उत्पादन को कम करता है, एक पदार्थ जो पेट में एसिड को निष्क्रिय करता है। इससे अधिक अम्लीय वातावरण बनता है, जो पेट की परत को नुकसान पहुंचा सकता है।
  5. शराब का सेवन: अत्यधिक शराब का सेवन पेट की परत को नुकसान पहुंचाता है और उसे नष्ट कर सकता है, जिससे अल्सर बन सकता है। शराब पेट में एसिड उत्पादन को भी बढ़ाती है, जिससे समस्या और बढ़ जाती है।
  6. अन्य कारक: अन्य योगदान देने वाले कारकों में तनाव और अल्सर का पारिवारिक इतिहास शामिल है। लगातार तनाव से पेट में एसिड का उत्पादन बढ़ सकता है, जबकि आनुवंशिकी के कारण कुछ लोगों में अल्सर होने की संभावना बढ़ती है।

इन कारणों को समझने से गैस्ट्रिक अल्सर को प्रभावी ढंग से रोकने और प्रबंधित करने में मदद मिलती है। जीवनशैली में बदलाव, उचित दवा का उपयोग और ज्ञात जोखिम कारकों से बचना अल्सर के विकास के जोखिम को कम करने में महत्वपूर्ण कदम हैं।

यह भी पढ़े: जाने एसिडिटी होने के कारण और इलाज

गैस्ट्रिक अल्सर के उपचार

गैस्ट्रिक अल्सर का उपचार पेट के एसिड को कम करने, संक्रमण को खत्म करने और पेट की परत को ठीक करने पर केंद्रित है। उपचार में निम्न शामिल हैं:

  • दवाएं:

  • प्रोटॉन पंप अवरोधक (पीपीआई): पेट में एसिड उत्पादन को कम करते हैं, उपचार को बढ़ावा देते हैं। उदाहरणों में ओमेप्राज़ोल और लैंसोप्राज़ोल शामिल हैं।
  • एंटीबायोटिक्स: एच. पाइलोरी संक्रमण को खत्म करने के लिए अक्सर एमोक्सिसिलिन और क्लैरिथ्रोमाइसिन जैसे एंटीबायोटिक दवाओं के संयोजन का उपयोग किया जाता है।
  • एंटासिड: पेट के एसिड को निष्क्रिय करके त्वरित राहत प्रदान करता है। इनमें टम्स और मालोक्स जैसे ओवर-द-काउंटर विकल्प शामिल हैं।
  • साइटोप्रोटेक्टिव एजेंट: पेट की परत की रक्षा करता है। सुक्रालफेट और मिसोप्रोस्टोल जैसी दवाएं आमतौर पर उपयोग की जाती हैं।
  • जीवनशैली में परिवर्तन:

  • एनएसएआईडी से बचें: एसिटामिनोफेन जैसी वैकल्पिक दर्द निवारक दवाओं का उपयोग करें।
  • आहार में संशोधन: मसालेदार भोजन, शराब और कैफीन से बचें। छोटे-छोटे, अधिक बार भोजन करें।
  • धूम्रपान छोड़ें: धूम्रपान बंद करने से उपचार में सहायता मिलती है और पुनरावृत्ति कम हो जाती है।
  • शराब सीमित करें: पेट में जलन और एसिड उत्पादन को कम करता है।
  • नियमित निगरानी:

  • फॉलोअप परामर्श: नियमित जांच से यह सुनिश्चित होता है कि अल्सर ठीक हो रहा है और यदि आवश्यक हो तो उपचार को समायोजित करें।

अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न

क्या सिर्फ़ तनाव से गैस्ट्रिक अल्सर हो सकता है?

तनाव अकेले गैस्ट्रिक अल्सर का मुख्य कारण नहीं है, लेकिन यह पेट में एसिड बढ़ाकर अल्सर की संभावना बढ़ा सकता है।

गैस्ट्रिक अल्सर का इलाज कैसे किया जाता है?

गैस्ट्रिक अल्सर का इलाज एंटासिड, पीपीआई, एच2-रिसेप्टर एंटागोनिस्ट, एंटीबायोटिक्स और लाइफस्टाइल में बदलाव से किया जाता है।

क्या आहार में बदलाव गैस्ट्रिक अल्सर में मदद कर सकते हैं?

हाँ, मसालेदार, तले हुए, और एसिडिक भोजन से परहेज करने और छोटे, बार-बार भोजन करने से अल्सर में राहत मिलती है।

क्या गैस्ट्रिक अल्सर के लिए कभी सर्जरी आवश्यक होती है?

हां, अगर दवाओं से अल्सर ठीक नहीं होता या जटिलताएं होती हैं, तो सर्जरी की आवश्यकता हो सकती है।

Request a Call Back X
Submit
By clicking Proceed, you agree to our Terms and Conditions and Privacy Policy

Do you have a question?

Get in touch with us

Submit
By clicking Proceed, you agree to our Terms and Conditions and Privacy Policy

Get in touch with us

Call Now

Get in touch with us

Submit
By clicking Proceed, you agree to our Terms and Conditions and Privacy Policy

Get in touch with us

Call Now