Call Now Whatsapp Call Back

योनि कैंसर क्या है: कारण, लक्षण और उपचार (Vaginal Cancer in Hindi)

vaginal cancer in hindi
Share

योनि कैंसर क्या है – Yoni ka Cancer in Hindi

दुनिया भर में कैंसर के मामले काफी तेजी से बढ़ रहे हैं। महिलाओं में कई तरह के कैंसर होते हैं, योनि का कैंसर भी उन्हीं में एक है। यह कैंसर सबसे ज्यादा उन कोशिकाओं में होता है जो योनि की आंतरिक सतह में होती हैं।

योनि मांसपेशियों की एक ट्यूब है जो बाहरी जननांगों को गर्भाशय से जोड़ती है। अनेक प्रकार के कैंसर शरीर के अन्य अंगो से योनि में फैल सकते हैं, लेकिन योनि में शुरु होने वाले कैंसर दुर्लभ होते हैं।

योनि कैंसर जब अपनी शुरुआती चरण में होता है तो निदान और उचित उपचार से इसे दूर किया जा सकता है। इस ब्लॉग में हम योनि कैंसर के प्रकार, चरण, कारण, लक्षण, जांच और उपचार के बारे में विस्तार से बात करेंगे।

योनि के कैंसर के प्रकार – Types of Vaginal Cancer in Hindi

योनि कैंसर दो प्रकार के होते हैं जिसमें निम्न शामिल हैं:

  1. स्क्वैमस सेल कार्सिनोमा: यह योनि कैंसर का सबसे आम प्रकार है जो स्क्वैमस नामक कोशिकाओं में होता है। योनि की आंतरिक लाइनिंग में मौजूद पतली और चपटी कोशिकाओं को स्क्वैमस कहा जाता है।स्क्वैमस सेल कार्सिनोमा धीमी गति से फैलता है और अधिकतर मामलों में यह योनि के आस-पास ही रहता है। हालांकि, यह लिवर, फेफड़ों या हड्डियों में भी फैल सकता है।
  2. एडेनोकारकीनोमा: यह कैंसर ग्लैंड्युलर कोशिकाओं में होता है। योनि की आंतरिक लाइनिंग में मौजूद ग्लैंड्युलर कोशिकाएं श्लेम का निर्माण करती हैं। स्क्वैमस सेल कार्सिनोमा की तुलना में एडेनोकारकीनोमा का फेफड़ों या लिम्फ नॉड्स में फैलने का खतरा अधिक होता है।

योनि के कैंसर के चरण – Stages of Vaginal Cancer in Hindi

योनि के कैंसर को चार चरणों में बांटा गया है:

  • पहला चरण: इस स्थिति में कैंसर योनि में ही मौजूद होता है। इसका मतलब यह हुआ कि कैंसर योनि से बाहर शरीर के अन्य भागों में नहीं फैला है।
  • दूसरा चरण: योनि कैंसर के दूसरे चरण में कैंसर योनि से बाहर फैल जाता है, लेकिन श्रोणि तक नहीं पहुंचा होता है।
  • तीसरा चरण: जब कैंसर श्रोणि के लिम्फ नॉड्स या श्रोणि की सतह में फैल जाता है तो इस स्थिति को तीसरे चरण में रखा जाता है।
  • चौथा चरण: इस दौरान, योनि का कैंसर मूत्राशय और मलाशय (Bladder & Rectum) तक या श्रोणि के बाहर फैल जाता है। साथ ही, यह लिम्फ नॉड्स तक भी फैला हुआ हो सकता है।

योनि कैंसर के लक्षण – Symptoms of Vaginal Cancer in Hindi

योनि कैंसर जब अपनी शुरुआती चरण में होता है तो कई बार उसके लक्षण दिखाई नहीं देते हैं। लेकिन जैसे-जैसे यह बढ़ता है, इसके लक्षण दिखने शुरु होते हैं।

योनि का कैंसर होने पर एक महिला खुद में निम्न लक्षणों को अनुभव कर सकती है:

  • योनि से असमान्य रूप से खून निकलना (खासकर यौन संबंध के दौरान या मेनोपॉज के बाद)
  • योनि में गांठ होना
  • श्रोणि में दर्द होना
  • बार-बार पेशाब लगना
  • कब्ज की शिकायत होना
  • पेशाब के दौरान दर्द होना
  • योनि से पानी जैसे स्राव होना

इन सबके अलावा, योनि कैंसर के प्रकार और चरण के आधार पर लक्षणों में बदलाव आ सकते हैं।

योनि कैंसर के कारण और जोखिम कारक – Causes & Risk Factors of Vaginal Cancer in Hindi

शोध से अभी तक यह स्पष्ट नहीं हुआ कि योनि कैंसर क्यों होता है या इसके क्या कारण हैं। सामान्य तौर पर, जब स्वस्थ कोशिकाओं में कुछ आनुवंशिक बदलाव होते हैं तो वे कोशिकाएं असामान्य रूप धारण करने लगती हैं।

स्वस्थ कोशिकाएं एक निर्धारित दर पर बढ़ती और गुणन करती हैं। साथ ही, एक निर्धारित समय के बाद ये कोशिकाएं ख़त्म हो जाती हैं। हालांकि, कैंसर कोशिकाएं नियंत्रण से बाहर बढ़ती हैं और गुणन करती हैं। साथ ही, ये निर्धारित समय पर ख़त्म भी नहीं होती हैं।

ये असामान्य कोशिकाएं एक जगह इकठ्ठा होकर ट्यूमर का निर्माण करती हैं। कैंसर कोशिकाएं अपने आस-पास के उत्तकों से शरीर के किसी भी हिस्से में फैल सकती हैं।

योनि कैंसर के जोखिम कारकों में निम्न शामिल हो सकते हैं:

  • धूम्रपान करना
  • बढ़ती उम्र (उम्र अधिक होना)
  • एक से अधिक सेक्स पार्टनर होना
  • एचआईवी संक्रमण से ग्रसित होना
  • पहली बार सेक्स करते समय उम्र कम होना
  • वैजाइनल इंट्रापिथेलिअल निओप्लेसिआ होना

योनि के कैंसर का निदान – Diagnosis of Vaginal Cancer in Hindi

योनि कैंसर का उपचार करने से पहले उसका निदान किया जाता है। निदान की शुरुआत में डॉक्टर मरीज से चिकित्सा इतिहास, योनि कैंसर के लक्षणों, यौन संबंधों और परिवार के इतिहास से संबंधित कुछ प्रश्न पूछते हैं। उसके बाद, कुछ जांच करने का सुझाव देते हैं जिसमें पैल्विक परीक्षण, पैप स्मीयर, कॉल्पोस्कॉपी और बायोप्सी शामिल हैं।

योनि के कैंसर का इलाज – Treatment For Vaginal Cancer in Hindi

योनि कैंसर का उपचार उसके प्रकार और चरण पर निर्भर करता है। इस बीमारी का उपचार करने के लिए डॉक्टर आमतौर पर सर्जरी और विकिरण यानी रेडिएशन का इस्तेमाल करते हैं।

योनि कैंसर की सर्जरी को कई तरह से किया जाता है।

  • अगर कैंसर योनि की सतह तक सीमित है तो उसे हटाने के साथ-साथ आसपास के कुछ स्वस्थ उत्तकों को भी हटा दिया जाता है। इससे यह सुनिश्चित होता है कि कैंसर की सभी कोशिकाओं को पूर्ण रूप से बाहर निकाल दिया गया है।
  • कुछ मामलों में कैंसर को हटाने के लिए योनि का एक भाग या संपूर्ण योनि को हटाया जा सकता है। साथ ही, कैंसर की गंभीरता के आधार पर, डॉक्टर हिस्टेरेक्टॉमी से गर्भाशय, अंडाशय और आसपास के लिम्फ नॉड्स (लिम्फेडेक्टॉमी) को निकालने की सलाह दे सकते हैं।
  • जब कैंसर श्रोणि में फैल जाता है या दोबारा होता है तो इस स्थिति में डॉक्टर मूत्राशय और अंडाशय, गर्भाशय, योनि, मलाशय और कोलन (बृहदान्त्र) के निचले हिस्से सहित श्रोणि के क्षेत्र से कई अंगों को निकाल सकते हैं।

रेडिएशन थेरेपी

इस दौरान, कैंसर की कोशिकाओं को नष्ट करने के लिए डॉक्टर एक्स-रे जैसी उच्च-ऊर्जा वाली बीम का उपयोग करते हैं। तेजी से बढ़ रही कैंसर कोशिकाओं को नष्ट करने का यह एक प्रभावशाली तरीका है।

रेडिएशन थेरेपी के दौरान, आसपास की स्वस्थ कोशिकाओं को भी नुकसान पहुंच सकता है जिसके कुछ साइड इफेक्ट्स (दुष्प्रभाव) हो सकते हैं।

कीमोथेरेपी

इस प्रक्रिया के दौरान, कैंसर कोशिकाओं को नष्ट करने के लिए डॉक्टर रसायनों का इस्तेमाल करते हैं। हालांकि, अभी तक यह तय नहीं हो पाया है कि कीमोथेरेपी योनि कैंसर के लिए उपयोगी है या नहीं।

शायद, यही कारण है कि योनि के कैंसर का इलाज करने के लिए कीमोथेरेपी का उपयोग बहुत कम मामलों में किया जाता है या नहीं किया जाता है। हालांकि, रेडिएशन की प्रभावशीलता को बढ़ाने के लिए उसके साथ कीमोथेरेपी का उपयोग किया जा सकता है।

Do you have a question?

    Up to 100% off on Doctor Consultation & Mammography



    Up to 100% off on Doctor Consultation & Mammography

    Call Now