Book Appointment Call Now

Neonatology & Paediatrics

Did you know that almost every child is born with flat and flexible feet? During the first year of their life, they grow exponentially fast. This article offers valuable insight into this condition for parents looking to learn about flatfeet. 

Did you know that almost every child is born with flat and flexible feet? During the first year of their life, they grow exponentially fast. However, the arches of their feet might fully develop only after they are 3-4 years old, even though they started walking and running much sooner. This article offers valuable insight

In India, approximately 6% of children have asthma. A large number of cases go unreported or undiagnosed. In this article, we will learn about Asthma, how to identify its early signs and the best ways to manage this condition in children.

Asthma is a relatively common chronic lung disease that can develop even in infancy. This chronic condition has become increasingly common in the past decade. It is believed that the increase in air pollution, environmental smoke etc might have contributed to the rising incidence of this problem. It is believed that in India, approximately 6% of

सेरेब्रल पाल्सी एक न्यूरोलॉजिकल डिसऑर्डर होता है जो बच्चों की शारीरिक गति, चलने-फिरने की क्षमता को प्रभावित करता है। सेरेब्रल शब्द का अर्थ मस्तिष्क के दोनों भागों से होता है और पाल्सी शब्द का अर्थ शारीरिक गति की कमजोरी या समस्या से है।

वर्ष 2017 में माइक्रोसॉफ्ट के सीईओ (CEO) सत्या नडेला की किताब हिट रिफ्रेश प्रकाशित हुई थी जिसमे उन्होंने अपने सेरेब्रल पाल्सी से जूझ रहे बेटे से जुडी कई बातों का उल्लेख किया था। हमारे आस पास भी बहुत से ऐसे बच्चे देखने मिल जाते हैं जो शारीरिक या मानसिक रूप से स्वस्थ नहीं होते या

क्लबफुट बच्चों में उनके जन्म के समय उनके पैर से सम्बंधित विकृति होती हैं जिसमे जन्म के समय से ही बच्चे का पैर अंदर की ओर मुड़ा होता है या टेढ़ा होता है। इस लेख में, हम आपको विस्तार से बतायेंगे कि क्लबफुट क्या होता है और किस प्रकार सही समय पर इसका पता लगाकर इसका इलाज किया जा सकता है।

एक रिसर्च के अनुसार, प्रत्येक 1000 जन्मों में से 1 बच्चा क्लबफुट से अवश्य प्रभावित होता है। यह संख्या अलग अलग देशों में अलग-अलग हो सकती है। यदि क्लबफुट का इलाज (Clubfoot treatment in Hindi) सही समय पर और सही तरीके से न किया जाये तो इसका परिणाम आजीवन विकलांगता और असहनीय दर्द हो सकता

 
BOOK A TOUR